Ghar Se Nikalte Hi.. Cover by Anup J

Standard

घर से निकलते ही, कुछ दूर चलते ही
रस्ते में है उसका घर
कल सुबह देखा तो बाल बनाती वो
खिड़की में आई नज़र

घर से निकलते ही, कुछ दूर चलते ही
रस्ते में है उसका घर
कल सुबह देखा तो बाल बनाती वो
खिड़की में आई नज़र
घर से निकलते ही…

मासूम चेहरा, नीची निगाहें
भोली सी लड़की, भोली अदाएँ
ना अप्सरा है, ना वो परी है
लेकिन ये उसकी जादूगरी है

दीवाना कर दे वो, इक रंग भर दे वो
शरमा के देखे जिधर
घर से निकलते ही, कुछ दूर चलते ही
रस्ते में है उसका घर

करता हूँ उसके घर के मैं फेरे
हँसने लगे हैं अब दोस्त मेरे
सच कह रहा हूँ, उसकी क़सम है
मैं फिर भी ख़ुश हूँ, बस एक ग़म है

जिसे प्यार करता हूँ, मैं जिस पे मरता हूँ
उसको नहीं है ख़बर
घर से निकलते ही, कुछ दूर चलते ही
रस्ते में है उसका घर

लड़की है जैसे कोई पहेली
कल जो मिली मुझको उसकी सहेली
मैंने कहा उसको जाके ये कहना
“अच्छा नहीं है यूँ दूर रहना”

कल शाम निकले वो घर से टहलने को
मिलना जो चाहे अगर

घर से निकलते ही, कुछ दूर चलते ही
रस्ते में है उसका घर
कल सुबह देखा तो बाल बनाती वो
खिड़की में आई नज़र

Hoshwalo Ko Khabar kya Cover by Anup J

Standard

Cover for Hoshwalo ko khabar kya Gazal by Jagjit Singh

होशवालों को खबर क्या
बेखुदी क्या चीज़ है
इश्क कीजिये फिर समझिये
ज़िन्दगी क्या चीज़ है

उनसे नज़रें क्या मिलीं
रौशन फिज़ाएँ हो गयीं
आज जाना प्यार की
जादूगरी क्या चीज़ है
इश्क कीजिये फिर…

बिखरी जुल्फों ने सिखाई
मौसमों को शायरी
झुकती आँखों ने बताया
मैकशी क्या चीज़ है
इश्क कीजिये फिर…

हम लबों से कह ना पाए
उनसे हाल-ए-दिल कभी
और वो समझे नहीं
ये ख़ामोशी क्या चीज़ है
इश्क कीजिये फिर…